Bhimashankar Wildlife Sanctuary | भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य

भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य, भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा के दौरान घूमने लायक एक बेहतरीन स्थान हैं। भीमाशंकर अभयारण्य पश्चिमी घाट में सह्याद्री रेंज में स्थित है। अभयारण्य का कुल क्षेत्रफल 130.780 वर्ग किमी है। 1985 में, क्षेत्र को एक अभयारण्य घोषित किया गया था। अभयारण्य दो उच्च पहाड़ियों में विभाजित है। अभयारण्य के पहले भाग में भीमाशंकर का मंदिर और जंगल शामिल हैं। भीमाशंकर का मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से छठा ज्योतिर्लिग है। 1अभयारण्य के दूसरी ओर, ठाणे, रायगढ़ जिले में जंगल है।

Continue reading “Bhimashankar Wildlife Sanctuary | भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य”

Pune – History and Tourist Places | पुणे – इतिहास व पर्यटन स्थल

पुणे महाराष्ट्र राज्य का एक महत्त्वपूर्ण शहर है। यह शहर भारत का 9वां व महाराष्ट्र का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। मराठी भाषा इस शहर की मुख्य भाषा है। यह शहर मुला व मूठा इन दो नदियों के किनारे बसा है। यहाँ कई शैक्षणिक संस्थान होने की वजह से इसे एजुकेशन हब भी कहा जाता है। पुणे में अनेक प्रौद्योगिकी और ऑटोमोबाईल उपक्रम हैं। समुद्र तल से 560 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, पुणे महाराष्ट्र के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यहाँ ऐतिहासिक और धार्मिक स्‍थलों की भरमार है।

Continue reading “Pune – History and Tourist Places | पुणे – इतिहास व पर्यटन स्थल”

Pataleshwar Cave Temple, Pune | पातालेश्वर गुफा मंदिर, पुणे

पातालेश्वर गुफा मंदिर भारत के महाराष्ट्र राज्य के पुणे में स्थित है। यह मंदिर शिवजी नगर में जंगली महाराज रोड पर नदी के पार स्थित है। भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर को पंचलेश्वर या बम्बुरदे के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर एक चट्टान (बेसाल्ट चट्टान) को काटकर बनाया गया है। यह एक रॉक-कट वास्तुकला का आदर्श उदाहरण  है। इस मंदिर की गुफाएं एलीफेन्‍टा और अजंता-एलोरा गुफाओं से काफी मिलती जुलती है। इस मंदिर को ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण धरोहर माना जाता है।

Continue reading “Pataleshwar Cave Temple, Pune | पातालेश्वर गुफा मंदिर, पुणे”

Shaniwar wada, Pune | शनिवार वाडा, पुणे

भारत की एतिहासिक धरोहर शनिवार वाडा किला (Shaniwar Wada Fort) पुणे, महाराष्ट्र का एक प्रमुख पर्यटक स्थल है। शनिवार वाड़ा का निर्माण, मराठा साम्राज्य में पेशवा बाजीराव प्रथम, जो कि छत्रपति शाहु के प्रधान (पेशवा) थे, ने करवाया था। शनिवार वाड़ा का मराठी में मतलब शनिवार (शनिवार/Saturday) तथा वाड़ा का मतलब रहने का स्थान होता है। शनिवार वाडा की नींव 10 जनवारी 1730 में शनिवार (Julian calendar के अनुसार) के दिन रखी गई थी। 22 जनवरी 1732 को शनिवार के दिन ही किले का उद्घाटन संपन्न हुआ। शनिवार के दिन नींव रखे जाने के कारण इस किले का नाम ‘शनिवार वाडा’ (Shaniwar Wada) पड़ा।

Continue reading “Shaniwar wada, Pune | शनिवार वाडा, पुणे”

Sinhagad Fort, Pune | सिंहगढ़ किला, पुणे

पुणे मुख्य शहर से 37 km की दूरी पर स्थित सिंहगढ़ एक प्राचीन किला है, जो अपनी खास भौगोलिक स्थित और अपने इतिहास के लिए जाना जाता है। अतीत पर प्रकाश डालें तो पता चलता है कि इस किले का निर्माण 2000 साल पहले किया गया था, हालांकि इसके निर्माण संबधी सटीक जानकारी उपलब्ध नही है। प्राचीन काल में यह स्थल कोंधन के नाम से जाना जाता था, दन्तकथाओं के अनुसार यहाँ पर प्राचीन काल में ‘कौंडिन्य’ अथवा ‘श्रृंगी ऋषि’ का आश्रम था।

Continue reading “Sinhagad Fort, Pune | सिंहगढ़ किला, पुणे”

Raja Dinkar Kelkar Museum, Pune | राजा दिनकर केलकर संग्रहालय, पुणे

केलकर संग्रहालय महाराष्ट्र के पुणे शहर में बाजीराव रोड पर प्रसिद्ध अभिनव कला मंदिर के समीप स्थित है। केलकर संग्रहालय को राजा दिनकर केलकर संग्रहालय भी कहा जाता है। दक्कन से केलकर संग्रहालय की दूरी दो से तीन किलोमीटर है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा संग्रहालय है। इस संग्रहालय की स्थापना 1962 में बाबा दिनकर केलकर ने अपने पुत्र की याद में की थी। जिसकी मृत्यु सात वर्ष की आयु में ही हो गई थी। वस्तुओं को इकट्ठा करने में उन्हें लगभग 40 साल लगे, और उन्होंने अपना व्यापक संग्रह पुरातत्व विभाग को सन 1975 में सौंप दिया।

Continue reading “Raja Dinkar Kelkar Museum, Pune | राजा दिनकर केलकर संग्रहालय, पुणे”