Lalgarh Palace, Bikaner | लालगढ़ महल, बीकानेर

लालगढ़ महल राजस्थान के बीकानेर शहर में स्थित एक खूबसूरत महल है। लालगढ़ महल बीकानेर शहर से 3 km दूर है। लालगढ़ महल को महाराजा गंगा सिंह जी ने 1902 व 1926 के बीच बनवाया था। लालगढ़ महल को महाराजा गंगा सिंह जी ने आधुनिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर बनवाया था। लालगढ़ महल का नाम गंगा सिंह जी के पिता लाल सिंह जी की याद में रखा था। यह ब्रिटिश राजाओं द्वारा भारतीय राजाओं के लिए बनाए गए महलों में से एक है और राजस्थान पर्यटन का अनुभव करने के लिए शीर्ष स्थानों में से एक है।

Continue reading “Lalgarh Palace, Bikaner | लालगढ़ महल, बीकानेर”

बाबा हरभजन सिंह – जो मरने के बाद भी कर रहे है सरहद की रखवाली !

अपने देश में देवी-देवताओं के तो मंदिर बहुत हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अपने देश में एक भारतीय सैनिक का मंदिर भी है। जहां दूर-दूर से लोग शीश नवाने पहुंचते हैं। सिक्किम की राजधानी गंगटोक से लगभग 52km दूर में जेलेप दर्रे और नाथु-ला दर्रे के बीच 14 हजार फीट की ऊंचाई पर बने इस मंदिर में दूर-दूर से लोग दर्शन करने पहुंचते हैं। भारत माता के सपूत शहीद कैप्टन हरभजन सिंह ऐसे वीर सैनिक हैं, जिनका शरीर छूटने के बाद भी देशप्रेम नहीं छूटा। कहा जाता है कि इस भारतीय सैनिक ने मृत्यु के बाद भी सेना की नौकरी नहीं छोड़ी। आज वो हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन ये मंदिर हमेशा उनकी मौजूदगी का ऐहसास कराता है।

Continue reading “बाबा हरभजन सिंह – जो मरने के बाद भी कर रहे है सरहद की रखवाली !”

Junagarh Fort, Bikaner | जूनागढ़ किला, बीकानेर

जूनागढ़ किला राजस्थान के बीकानेर में स्थित है। यह भारत के सबसे प्रसिद्ध किलो में से एक है। यह बीकानेर में देखे जाने वाले प्रमुख स्थानों में से एक है। इस किले को वास्तव में चिंतामणि दुर्ग या बीकानेर किले के नाम से जाना जाता था। जूनागढ़ का अर्थ होता है पुराना किला, और ये नाम इस किले को 20वी सदी में मिला था जब राज परिवार इस किले से पलायन कर लालगढ़ पैलेस में रहने लगा। यह किला राजस्थान के उन प्रमुख किलो में शामिल है जो पहाड़ की ऊंचाई पर नही बने है। वर्तमान बीकानेर शहर किले के आस-पास ही विकसित हुआ है। यह किला दिखने में बेहद आकर्षक है, जो यहां आने वाले पर्यटकों कों अपनी तरफ खींचता है।

Continue reading “Junagarh Fort, Bikaner | जूनागढ़ किला, बीकानेर”

Bikaner – History and Tourist Places | बीकानेर – इतिहास और दर्शनीय स्थल

बीकानेर राजस्थान राज्य में रेगिस्तान का एक शहर है। जो, जोधपुर से 245km, जयपुर से 333km दूर है। बीकानेर राज्य का पुराना नाम जांगलू देश था। बीकानेर के राजा जांगलू देश के स्वामी होने के कारण अब तक “जंगल धर बादशाह’ कहलाते हैं। जांगलू पश्चिमी राजस्थान का वो हिस्सा है जिसे हम लोग आज बीकानेर, चुरू हनुमानगढ़ और श्री गंगानगर के नाम से जानते हैं। इसके उत्तर में कुरु और मद्र देश थे, इसलिए महाभारत में जांगलू नाम कहीं अकेला और कहीं कुरु और मद्र देशों के साथ जुड़ा हुआ मिलता है। बीकानेर शहर बीकानेर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है और राजस्थान के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है।

Continue reading “Bikaner – History and Tourist Places | बीकानेर – इतिहास और दर्शनीय स्थल”

Brahma Temple, Pushkar | ब्रह्मा मंदिर, पुष्कर

हिंदू धर्म में तीन प्रधान देव माने गए हैं, ब्रह्मा, विष्णु और महेश। ब्रह्मा जी इस संसार के रचनाकार है, विष्णु पालनहार है और महेश संहारक है। लेकिन हमारे देश में जहां विष्णु और महेश यानी भोलेनाथ जी के अनेको मंदिर है। लेकिन ब्रह्मा जी का पूरे भारत में एकमात्र प्रसिद्ध मंदिर है। जो कि राजस्थान के पुष्कर में स्‍थ‍ित है। पुष्कर अजमेर शहर से 14km की दूरी पर स्थित है। यह दुनिया के टॉप 10 धार्मिक स्थानों और भारत में हिन्दुओं के टॉप 5 पवित्र स्थलों में से एक है।

Continue reading “Brahma Temple, Pushkar | ब्रह्मा मंदिर, पुष्कर”

करणी माता मन्दिर – जहां रहते हैं 20 हजार चूहे !!

करणी माता का मन्दिर एक प्रसिद्ध हिन्दू मन्दिर है, जो राजस्थान के बीकानेर जिले से महज 30km दूर स्थित देशनोक में स्थित है। करणी माता का मंदिर जिसे चूहों वाली माता, चूहों वाला मंदिर और मूषक मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर में भक्तों से ज्यादा काले चूहे नजर आते हैं। वैसे यहां चूहों को ‘काबा’ कहा जाता है और इन काबाओं को बाकायदा दूध, लड्डू और अन्य खाने-पीने की चीजें परोसी जाती हैं। ये एक ऐसा मंदिर है, जहां पर 20 हजार चूहे रहते हैं और मंदिर में आने वाले भक्तों को चूहों का जूठा किया हुआ प्रसाद ही मिलता है।

Continue reading “करणी माता मन्दिर – जहां रहते हैं 20 हजार चूहे !!”