Mata Vaishno Devi Temple – History | माता वैष्णो देवी मंदिर – पौराणिक कथा

माता वैष्णो देवी का विश्व प्रसिद्ध मंदिर भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य में जम्मू के त्रिकूट पर्वत पर स्थित है। माता वैष्णो देवी का मंदिर कटरा से 13km दूर त्रिकूट पर्वत पर स्थित है। यह मंदिर करीब 5,200 फीट ऊंचाई पर स्थित है। त्रिकूट पर्वत पर एक भव्य गुफा में माता वैष्णो देवी की स्वयंभू तीन मूर्तियां हैं। देवी काली (दाएं), सरस्वती (बाएं) और लक्ष्मी (मध्य), पिण्डी के रूप में गुफा में विराजित हैं। इन तीनों पिण्डियों के सम्मि‍लित रूप को वैष्णो देवी माता कहा जाता है। इस पवित्र गुफा की लंबाई 98 फीट है।

Continue reading “Mata Vaishno Devi Temple – History | माता वैष्णो देवी मंदिर – पौराणिक कथा”

MahaLaxmi Temple, Mumbai | महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई

ब्रह्मा, विष्णु ,महेश की तरह हिन्दू धर्म में देवी लक्ष्मी प्रमुख देवी देवतायों में से एक हैं, जिन्हें धन धान्य की देवी माना जाता है। महालक्ष्मी की पूजा घर और कारोबार में सुख और समृद्धि लाने के लिए की जाती है। भारत में देवी लक्ष्मी को समर्पित कई मंदिर है, जहां देवी लक्ष्मी के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है। जहां उनके भक्त धन-सम्रद्धि की मन्नते मांगने पहुंचते हैं। इन्हीं मंदिरों में से एक है, महाराष्ट्र के मुंबई शहर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर। मुंबई शहर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर मुंबई के सर्वाधिक प्राचीन धर्मस्थलों में से एक है। यह मंदिर समुद्र के किनारे बी. देसाई मार्ग पर स्थित है। समुद्र के किनारे बसा होने की वजह से मंदिर की सुन्दरता और बढ़ जाती है।

Continue reading “MahaLaxmi Temple, Mumbai | महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई”

SiddhiVinayak Temple, Mumbai | सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबई

महाराष्ट्र के मुंबई शहर में स्थित सिद्धिविनायक मंदिर भगवान गणेश को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है, जिसकी गिनती देश के सबसे व्यस्त धार्मिक स्थलों में की जाती है। यह मंदिर मुंबई के प्रभा देवी इलाके स्थित है। गणेश जी को हिन्दू धर्म में मंगल मूर्ति मानते है, उनकी पूजा से हमारे जीवन में जो भी बाधाये है वो निकल जाती है। सिद्धिविनायक मंदिर में गणपति बप्पा के दर्शन के लिए भारी संख्या में देश-विदेश से श्रद्धालु आते हैं। जिनमे बॉलीवुड के जाने माने स्टार से लेकर नेता, बड़े उद्योगपति भी होते है। यह लोगों की आस्था का प्रमुख केंद्र है।

Continue reading “SiddhiVinayak Temple, Mumbai | सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबई”

Salasar Balaji Temple, Rajshthan | सालासर बालाजी मंदिर, राजस्थान

सालासर बालाजी मंदिर, राजस्थान के चुरू जिले में स्थित है। यह भगवान हनुमान जी को समर्पित मंदिर है। यह जयपुर-बीकानेर राजमार्ग पर सीकर से लगभग 57km व सूजानगढ से लगभग 24km दूर स्थित है। भारत में यह हनुमान जी का एकमात्र मंदिर है जिसमे हनुमान जी के दाढ़ी और मूँछ है। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को यहां भक्तों की भारी भीड़ होती है। ऐसी मान्यता है कि हनुमान जयंती के पावन पर्व पर यहां आने वाले सभी भक्तों की मुरादें पूरी होती है, भक्त यहां स्थित एक प्राचीन वृक्ष पर नारियल बांध कर मन्नत मांगते हैं। इस धाम के बारे में यह प्रसिद्ध है कि यहां से कोई भी भक्त खाली हाथ नहीं लौटता। सालासर बालाजी सभी की मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं।

Continue reading “Salasar Balaji Temple, Rajshthan | सालासर बालाजी मंदिर, राजस्थान”

Khatu Shyam Temple | खाटू श्याम मंदिर – हारे का सहारा..!!

हमारे देश में बहुत से ऐसे धार्मिक स्थल हैं जो अपने चमत्कारों व वरदानों के लिए प्रसिद्ध हैं। उन्हीं मंदिरों में से एक है राजस्थान में शेखावाटी क्षेत्र के सीकर जिले का विश्व विख्यात प्रसिद्ध खाटू श्याम मंदिर। खाटू श्याम मंदिर में भीम के पौत्र और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक की श्याम यानी कृष्ण के रूप में पूजा की जाती है। खाटू श्याम मंदिर में श्याम बाबा का धड़ से अलग शीष और धनुष पर तीन बाण की छवि वाली मूर्ति स्थापित हैं। हिन्दू धर्म के अनुसार, बर्बरीक ने भगवान श्री कृष्ण से वरदान प्राप्त किया था कि वे कलयुग में उनके नाम श्याम से पूजे जाएँगे।

Continue reading “Khatu Shyam Temple | खाटू श्याम मंदिर – हारे का सहारा..!!”

बाबा हरभजन सिंह – जो मरने के बाद भी कर रहे है सरहद की रखवाली !

अपने देश में देवी-देवताओं के तो मंदिर बहुत हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अपने देश में एक भारतीय सैनिक का मंदिर भी है। जहां दूर-दूर से लोग शीश नवाने पहुंचते हैं। सिक्किम की राजधानी गंगटोक से लगभग 52km दूर में जेलेप दर्रे और नाथु-ला दर्रे के बीच 14 हजार फीट की ऊंचाई पर बने इस मंदिर में दूर-दूर से लोग दर्शन करने पहुंचते हैं। भारत माता के सपूत शहीद कैप्टन हरभजन सिंह ऐसे वीर सैनिक हैं, जिनका शरीर छूटने के बाद भी देशप्रेम नहीं छूटा। कहा जाता है कि इस भारतीय सैनिक ने मृत्यु के बाद भी सेना की नौकरी नहीं छोड़ी। आज वो हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन ये मंदिर हमेशा उनकी मौजूदगी का ऐहसास कराता है।

Continue reading “बाबा हरभजन सिंह – जो मरने के बाद भी कर रहे है सरहद की रखवाली !”