Grishneshwar Jyotirlinga – How to Reach ? | घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग – कैसे पहुंचें ?

महाराष्ट्र में औरंगाबाद के नजदीक दौलताबाद से 11 km दूर घृष्‍णेश्‍वर महादेव का मंदिर स्थित है। यह 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। कुछ लोग इसे घुश्मेश्वर के नाम से भी पुकारते हैं। बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएँ इस मंदिर के समीप ही स्थित हैं। इस मंदिर का निर्माण देवी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था। शहर से दूर स्थित यह मंदिर सादगी से परिपूर्ण है। 12 ज्योतिर्लिंगों में यह अंतिम ज्योतिर्लिंग है। इसे घुश्मेश्वर, घुसृणेश्वर या घृष्णेश्वर भी कहा जाता है।

शिर्डी से घुष्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 114 Km है। ज्योतिर्लिंग ‘घुष्मेश्वर’ के पास ही एक सरोवर भी है जो शिवालय के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि ज्योतिर्लिंग के साथ जो भक्त इस सरोवर के भी दर्शन करते हैं। भगवान शिव उनकी सभी इच्छाएं पूर्ण करते हैं। शास्त्रों के अनुसार जिस दंपत्ती को संतान सुख नहीं मिल पाता है उन्हें यहां आकर दर्शन करने से संतान की प्राप्ति होती है।

पूरी होती है यह मनोकामना –

ज्योतिर्लिंग ‘घुष्मेश्वर’ के पास ही एक सरोवर भी है जो शिवालय के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि ज्योतिर्लिंग के साथ जो भक्त इस सरोवर के भी दर्शन करते हैं। भगवान शिव उनकी सभी इच्छाएं पूर्ण करते हैं। शास्त्रों के अनुसार जिस दंपत्ती को संतान सुख नहीं मिल पाता है उन्हें यहां आकर दर्शन करने से संतान की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि यह वही तालाब है जहां पर घुष्मा बनाए गए शिवलिंगों का विसर्जन करती थी और इसी के किनारे उसने अपना पुत्र जीवित मिला था। हर साल यहां सावन माह के दौरान लाखों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। आम दिनों में भी यहां भारी संख्या में लोग पहुंचते हैं।

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के आसपास के प्रमुख पर्यटन और आकर्षण स्थल –
Places To Visit Near Grishneshwar Mandir –

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय –
Best Time To Visit Grishneshwar Mandir –

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर जाने के लिए सबसे अच्छा समय नवम्बर से फरवरी का माना जाता हैं। सर्दियों का मौसम घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा हैं। हालाकि आप यहां वर्ष में किसी भी समय आ सकते हैं। सावन का महिना भक्तो के लिए बेहद खास होता हैं।

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर कैसे पहुंचें –

हवाई मार्ग – घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा के लिए निकटतम हवाई अड्डा औरंगाबाद (Aurangabad) है। घुश्मेश्वर से औरंगाबाद की दूरी लगभग 36 Km है। हां से आप स्थानीय साधनों (टैक्सी, बस) की मदद से रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग आसानी से पहुंच जाएंगे।

रेल मार्ग  घुश्मेश्वर से सबसे पास का रेलवे स्टेशन औरंगाबाद(36 km) ही है। शिर्डी से घुष्मेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 114 Km है

सड़क मार्ग – औरंगाबाद से घुश्वेश्वर के लिए आसानी से बसें और निजी साधन मिल जाते हैं।

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग | सही क्रम और उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

Leave a Reply