How to Reach Mahakaleshwar Jyotirlinga ?| महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग कैसे पहुंचे ?

कहते हैं भगवान शिव के अनेक रूप हैं। शिव की आराधना करने से आपकी हर मनोकामना पूर्ण होती है। भगवान शिव देशभर में अनेक स्थानों पर ज्योतिर्लिंग के रूप में विराजमान हैं। भारत देश में 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंग हैं, जिनमे से एक है महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग है। मध्य प्रदेश राज्य में रुद्र सागर झील के किनारे बसे प्राचीन शहर उज्जैन में स्थित महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग हिंदुओं के सबसे पवित्र और उत्कृष्ट तीर्थ स्थानों में से एक है। महाकालेश्वर मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यह एक अत्यंत पुण्यदायी मंदिर है। माना जाता है कि इस मंदिर के दर्शन मात्र से मोक्ष की प्राप्ति होती है। यहां पर आधुनिक और व्यस्त जीवन शैली होने के बाद भी यह मंदिर यहां आने वाले पर्यटकों को पूरी तरह से मन की शांति प्रदान करता है।

समय सारणी –

चैत्र माह से आश्विन माह तक-

सुबह की पूजा: सुबह 7:00- सुबह 7:30 बजे
मध्याह्न पूजा: सुबह 10:00 – सुबह 10:30 बजे
शाम की पूजा: शाम 5:00 बजे – शाम 5:30 बजे
श्री महाकाल आरती: शाम 7:00 बजे – शाम 7:30 बजे
बंद करने का समय: रात 11:00 बजे

कार्तिक से फाल्गुन माह तक-

सुबह की पूजा: सुबह 7:30 –सुबह 8:00 बजे
मध्याह्न पूजा:सुबह 10:30 – सुबह 11:00 बजे
शाम की पूजा: शाम 5:30 बजे – शाम 6:00 बजे
श्री महाकाल आरती: शाम 7:30 बजे – रात 8:00 बजे
बंद करने का समय: रात 11:00 बजे

महाकाल मंदिर के आस-पास अन्य तीर्थ एवं दर्शनीय स्थल – 

1. हरिसिद्धि मंदिर- यह देवी सती के इक्यावन शक्ति पीठों में से एक है।

2. कालभैरव मंदिर- उज्जैन स्थित कालभैरव मंदिर एक चमत्कारी मंदिर है, यहां भगवान की मूर्ति को प्रसाद के रूप में मदिरा (शराब) चढ़ाई जाती है।

3. गोपाल मंदिर- उज्जैन शहर के मध्य में स्थित गोपाल मंदिर भगवान कृष्ण का दर्शनीय मंदिर है।

4. मंगलनाथ-  मंगल संबंधी दोषों का नाश करने के लिए यह देश का एक मात्र मंदिर है।

महाकालेश्वर मंदिर कैसे पहुंचे –
How to Reach Mahakaleshwar Temple –

हवाई मार्ग- उज्जैन से लगभग 55 कि.मी की दूरी पर इन्दौर (INDORE) का एयरपोर्ट है। वहां तक हवाई मार्ग से आकर रेल या सड़क मार्ग से महाकाल मंदिर पहुंचा जा सकता है।

रेल मार्ग- देश के लगभग सभी बड़े शहरों से उज्जैन के लिए रेल गाड़ियां चलती है।

सड़क मार्ग- उज्जैन पहुंचने के लिए सड़क मार्ग का भी प्रयोग किया जा सकता है। उज्जैन सीधे इंदौर, सूरत, ग्वालियर, पुणे, मुंबई, अहमदाबाद, जयपुर, उदयपुर, नासिक, मथुरा सड़क मार्ग से जुड़ा है।

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग | सही क्रम और उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

Leave a Reply