Chanakya Niti : धनवान बनना है तो इन बातों का रखें ख्याल, नहीं होगी कभी पैसे की कमी!

चाणक्य नीति  मौर्यकाल के महान आचार्य चाणक्य का नीति ग्रंथ है। इस ग्रंथ में मानव कल्याण के लिए सरल और बेहद कारगर सुझाव दिए गए हैं।आचार्य चाणक्य को प्राचीन इतिहास के महानतम शिक्षकों और विद्वानों में से एक समझा जाता है।

चाणक्य कूटनीति के जानकार होने के साथ ही जीवन दर्शन के भी ज्ञाता थे।पैसा या धन के महत्व को देखते हुए  चाणक्य ने कई ऐसी बातें बताई हैं।जिनका पालन करने पर हर व्यक्ति को सुखी जीवन और शांति प्राप्त होती है। चाणक्य नीतियां सदियों पुरानी होने के बावजूद आज की जीवनशैली में आसानी से लागू की जा सकती है.

चाणक्य नीति के मुताबिक जो व्यक्ति दांत की सफाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देता है, उसे धन संबंधी परेशानी का सामना करना पड़ता है. जो लोग रोजाना अपने दांत साफ करते हैं, उन पर लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है.

चाणक्य के अनुसार लक्ष्मी की कृपा उन लोगों पर कभी नहीं आती हैं जो गंदे कपड़े पहनते हैं. जो लोग गंदगी पसंद करते हैं, वे अपने आसपास सफाई का ध्यान नहीं रखते हैं. उन पर कभी भी देवी लक्ष्मी की कृपा नहीं होती है. इस तरह के व्यक्ति को पैसे उधार देने से भी बचना चाहिए.

चाणक्य के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को प्रेम से बोलना चाहिए और लक्ष्मी हमेशा उन लोगों से नाराज़ होती हैं जो अपनी बातों से दूसरों के मन को चोट पहुंचाते हैं. इसलिए हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी व्यक्ति को आपके कहे हुए शब्दों का बुरा नहीं लगे. इस कारण ना केवल व्यक्ति के मन को चोट पहुंचती है बल्कि वह गुस्से में कोई गलत कदम भी उठा सकता है.

चाणक्य कहते हैं कि इंसान के जीवन में सफल होने के लिए और धन की प्राप्ति के लिए लक्ष्य का निर्धारित होना आवश्यक है. ऐसा नहीं होने पर इंसान धन की प्राप्ति नहीं कर पाता और सफलता कोसो दूर चली जाती है. साथ ही कभी भी अपनी योजनाओं के बारे में किसी और को नहीं बताना चाहिए.

पैसों के संबंध में आचार्य चाणक्य ने एक महत्वपूर्ण बात बताई है कि

उपार्जितानां वित्तानां त्याग एव हि रक्षणाम्।

तडागोदरसंस्थानां परीस्रव इवाम्भसाम्।। (चाणक्य नीति)

चाणक्य कहते हैं विकट परिस्थिति के लिए धन का संचय जरूरी है लेकिन सारा का सारा पैसा बचाकर रखना मूर्खता है. धन को बचाने का सबसे अच्छा तरीका उसके ज्यादा से ज्यादा हिस्से को सही जगह खर्च करना होता है. जिस प्रकार तालाब या बर्तन में रखा पानी एक समय बाद खराब हो जाता है वैसे ही बिना प्रयोग वाला धन भी बर्बाद हो जाता है.

Leave a Reply